Tuesday, December 1, 2009

इंसानियत को नंगा किया ||














एक बार ऐसा हुआ था गुजरात में |
दो सांड निकले थे एक बार रात में |

ख़ामोशी जहां पसरी हुई पड़ी थी |
क़त्ल की रात मुह बाए खड़ी थी||

दोनों एक दुसरे से थे भयभीत |
कौमी एकता की टूट चुकी थी प्रीत| |

भयभीत दोनों, चल तो रहे थे एक साथ |
पर चाहते हुए भी ना कर पा रहे थे बात ||

दोनों अपनी अपनी छुपा रहे थे पहचान |
पता ही नहीं चला की वो हिन्दू थे या मुसलमान||

आखिर चलते चलते दोनों की मंजिल आई |
अपने घर में घुसने से पहले दोनों ने नजरें मिलाई||

दोनों की चाल डगमगाई हुई थी |
दोनों की आँखें डबडबाई हुई थी ||


हिन्दू मुस्लिमों ने दंगा क्या किया |
इंसानियत को इन्होने नंगा किया ||

10 comments:

  1. बेहतरीन रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  2. खुला सांड करारी चोट है भाई ऐसे ही लिखते रहिए। बधाई

    ReplyDelete
  3. हिन्दू मुस्लिमों ने दंगा क्या किया |
    इंसानियत को इन्होने नंगा किया ||
    वाह क्या बात है, आप ने अपनी कविता मै बहुत गहरी बात कही.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. khuda aapke saaaandpan ko mahfooz rakhe. Shubh kamnayen...

    ReplyDelete
  5. बहुत ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने ! हर एक पंक्तियाँ सच्चाई बयान करती है! इस उम्दा रचना के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  6. गुजरात में ही नहीं हर कहीं
    जो भी इंसानियत को नंगा करेगा
    उनकी चाल डगमगाएगी
    आँखें डबडबाएगी।

    ReplyDelete
  7. hindu muskim ne kya kiya, insaniyat ko nanga kiya.........bahut khoob.

    ReplyDelete
  8. बहुत ही अच्‍छी कविता लिखी है
    आपने काबिलेतारीफ बेहतरीन


    SANJAY KUMAR
    HARYANA
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. chhupa rahe the apni pahchan .........???

    ReplyDelete

सांड को घास डालने के लिए धन्यवाद !!!! आपके द्वारे भी आ रहा हूँ! आपकी रचना को चरने!

Followers

चिट्ठाजगत http://www.chitthajagat.in/?ping=http://khula-saand.blogspot.com/


For more widgets please visit 
  www.yourminis.com

Lorem

Lorem

About This Blog