Thursday, November 19, 2009

खुले सांड की हकीकत |

नमस्कार !! जैसा की नाम इंगित कर ही रहा है की "खुला सांड" कहाँ कहाँ जा सकता है !!! सो नाम को लेकर कोन्फुस मत होइए | भाई ये खुले सांड की नहीं, बात है विचारों को खोलने की बात है |
एक खुले सांड की तरह कल्पना लोक के उन्मुक्त गगन में अपने विचारों को खुला छोड़ दो, उड़ने दो जहां उड़ना चाहते हैं !
क्यों पाबंदिया? क्यों पहरे? किसी भी धर्म, किसी भी समाज, किसी भी संस्था के बारे में पढो समझो और सोचो !! दायरे क्यों धर्म के ? पाबंदियां क्यों मजहब की? क्यों जरुरत है मेरी पहचान की क्या ये काफी नहीं की मैं एक इन्सान हूँ ! न मुस्लिम, न हिन्दू, न सिख, न इसाई,| सब धर्म मेरे हैं सब मजहब को मैं पूजता हूँ|

26 comments:

  1. स्वागत है आपका । ब्लोग जगत में

    ReplyDelete
  2. स्वागत है आपका । ब्लोग जगत में

    ReplyDelete
  3. आपका स्‍वागत है ब्‍लाग जगत में, आपका भी और आपके विचारों का भी ।

    ReplyDelete
  4. आपका स्वागत है ब्लागजगत मे।टिप्पणी के लिये धन्यवाद नाम मे क्या रखा हैबस एक इन्सान होना आज कल बहुत बडी बात है। शुभकामनायें

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर स्वागत है ………

    ReplyDelete
  6. मेरे ब्लॉग पर आने के लिए और टिपण्णी देने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया! मेरे इस ब्लॉग पर भी आपका स्वागत है -
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com
    बहुत बढ़िया लिखा है आपने! इस उम्दा पोस्ट के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  7. ब्लाग जगत में सांड की बहुत जरूरत थी.......... आप आ गये अच्छा हुआ..

    ReplyDelete
  8. स्वागत है लाल लगोंट लिए कोई आता ही होगा आपके सामने सांड साहब कुछ तो हरी लिए घूम रहे हैं देखो धर्म को भी रंग से परिभाषित कर रहे हैं अब तुम आ गए हो तो शायद सुधरें मुए. तुम्हारी ज़रुरत है भाई फिर अपन तो हाथ जोड़ के स्वागत की मुद्रा में है पर गलत को इग्नोर मत करना भाई वैसे कौन हो पता तो चलजाएगा

    ReplyDelete
  9. माउनटेंन व्यू कैलिफोर्निया यूं एस से खुल्ला सांड का स्वागत है
    व्हेरिफिकेशन तो हटा लो भाई साहब

    ReplyDelete
  10. आपका स्‍वागत है मित्र, इंसान का कोई मजहब नही होता यदि वह सच्‍चा इंसान है तो।

    ReplyDelete
  11. kuchh ghaas mere blog par bhi rakhi hai,...aaiye...

    ReplyDelete
  12. kaa ji saand ji!! khulaa kisane chhod diyaa!!

    ReplyDelete
  13. उम्मीद है, कि भाग नहीं खड़े होगे :-), जिन शानदार विचारों की बात कर रहे हो उनको नमन है , मगर कायम रहिएगा , !
    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  14. अरे कमेंट करने वाले तो खुला सांड़ नहीं हैं
    मरवाओगे तो नहीं!
    मेरे शहर में एक सांड़ बनारसी रहते हैं उन्हीं के बिरादरी के तो नहीं हो?

    ReplyDelete
  15. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  16. सांड भी तो घास खाते है :)

    ReplyDelete
  17. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी टिप्पणियां दें

    ReplyDelete
  18. खुले सांड की हकीकत |
    पढ़कर मन गदगद हो गया। जितनी भी तारीफ की जाए कम है।

    ReplyDelete
  19. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है अपने विचारों की अभिव्यक्ति के साथ साथ अन्य सभी के भी विचार जाने..!!!लिखते रहिये और पढ़ते रहिये....

    ReplyDelete
  20. you are most welcome and ye to duniya ka ek anokha ajooba hai ki ye saand na sirf likha padha hai par ye computer literate bhi hai aur itni achchhi hindi jaanta hai .......

    ReplyDelete
  21. आपका स्‍वागत है ब्‍लाग जगत में, आपका भी और आपके विचारों का भी ।

    ReplyDelete
  22. great! superb! u r really a bull of freedom.Welcome

    ReplyDelete
  23. हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अगर समुदायिक चिट्ठाकारी में रूचि हो तो यहाँ पधारें http://www.janokti.blogspot.com . और पसंद आये तो हमारे समुदायिक चिट्ठे से जुड़ने के लिए मेलकरें janokti@gmail.com

    ReplyDelete
  24. वाह क्या बात है, सांडों की वास्तव में ही बहुत आवश्यकता है, भेंसासुरों को तो लोग भगा देते हैं, डते रहना, पर गुर ये है कि---एसा सांड होना चाहिये--
    ""चक्री त्रिशूली, न शिवो न विष्णु; महा बलिश्ठो न च भीमसेन
    स्वच्छन्दचारी न न्रपति न योगी; यो जानाति सः पन्डितः ॥""
    ----नीचे लिख पते पर भी कुछ घास है-
    http://shyamthot.blogspot.com & saahityshyam

    ReplyDelete
  25. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete

सांड को घास डालने के लिए धन्यवाद !!!! आपके द्वारे भी आ रहा हूँ! आपकी रचना को चरने!

Followers

चिट्ठाजगत http://www.chitthajagat.in/?ping=http://khula-saand.blogspot.com/


For more widgets please visit 
  www.yourminis.com

Lorem

Lorem

About This Blog