Wednesday, January 13, 2010

"टिप्पणियों के अभाव में" !!

मिलकर रहो क्या रखा है अलगाव में!!
दिल की सुनो मत बहको किसी के दबाव में!!
क्या हिन्दू, क्या मुस्लिम, सिक्ख ,इसाई क्या !!
इंसानियत का नाता हो आत्मा के लगाव में!!

प्रेम सोहार्द मिलते नहीं बाजार के भाव में !
भावनाओं को मत मारो खुदगर्जी के चाव में !!
जात पात घृणा नफरत तपते हुए सेहरा हैं !
सीतल प्रेम की छैंयाँ बैठो क्या रखा है ताव में!!


कहाँ किसी का भला हुआ आज तक टकराव में !
मनके मणके पिरो माला बनो क्या रखा बिखराव में !!
हर गहरा जख्म भर जाता है बोली का जख्म नहीं भरता !
मीठे बोल से सहद घोलो, दर्द बहुत है बोलों के घाव में !!

दम तोड़ देती हैं कलियाँ लापरवाही के रखरखाव में!
दया प्रेम ममता करुणा शामिल करलो स्वभाव में !!
यहाँ हर एक तुर्रम खान है यहाँ अपनी बिसात क्या!!
दम तोड़ देता है ब्लोगर धीरे धीरे "टिप्पणियों के अभाव में" !!










23 comments:

  1. वाह वाह
    आज सांड महाराज का मूड बड़ा अच्छा लगता हैं. बड़ी गंभीर बात कह दी. बिलकुल सही, यह बाहर की दुनिया में कम गलियां सुनते हैं जो अब यहाँ पर भी सुने. ब्लॉग जगत में प्रेम का गीत गाते हुए आईये भाईचारे के साथ एक दुसरे की रचनाओ को चरते चले. आपकी रचना चर ली हैं और डकार भी मार ली. आईये हमारे ब्लॉग पर और चर डालिए सारीरचनाये

    ReplyDelete
  2. दम तोड़ देती हैं कलियाँ लापरवाही के रखरखाव में!
    दया प्रेम ममता करुणा शामिल करलो स्वभाव में !!
    यहाँ हर एक तुर्रम खान है यहाँ अपनी बिसात क्या!!
    दम तोड़ देता है ब्लोगर धीरे धीरे "टिप्पणियों के अभाव में" !!
    वाह वाह लो जी अप टिप्पणी का अभाव नहीं रहेगा। शुभकामनायें आशीर्वाद्

    ReplyDelete
  3. सींग चलाने का अंदाज अच्छा लगा ,अंतिम चार लाइनें एकदम सटीक लगीं

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब
    सुन्दर रचना
    धन्यवाद .........

    ReplyDelete
  5. ये लो सांड महाराज आपकी रचना भी हमने चर ली है और अब टिपिया भी रहे है हमारी तरफ़ से आपको टिप्पणी की कोई कमी नही रहेगी। हम टिप्पणी दे्ने मे कोई कमी नही करते है, अब कुछ देर बैठ कर यहीं जुगाली कर रहे हैं। और प्रारंभ मे 5 टिप्पणियों का एक गट्ठा डाल रहे हैं। बस ऐसे ही नेक काम करो लेकिन किसी को सींगों से मारने के लिए मत दौड़ाना।

    ReplyDelete
  6. अरे आप भी आ गए ब्लालिंग में जय हो सांड महाराज की ....

    ReplyDelete
  7. ये लो सांड महाराज आपकी रचना भी हमने चर ली है और अब टिपिया भी रहे है हमारी तरफ़ से आपको टिप्पणी की कोई कमी नही रहेगी। हम टिप्पणी दे्ने मे कोई कमी नही करते है, अब कुछ देर बैठ कर यहीं जुगाली कर रहे हैं। और प्रारंभ मे 5 टिप्पणियों का एक गट्ठा डाल रहे हैं। बस ऐसे ही नेक काम करो लेकिन किसी को सींगों से मारने के लिए मत दौड़ाना।

    ReplyDelete
  8. ये लो सांड महाराज आपकी रचना भी हमने चर ली है और अब टिपिया भी रहे है हमारी तरफ़ से आपको टिप्पणी की कोई कमी नही रहेगी। हम टिप्पणी दे्ने मे कोई कमी नही करते है, अब कुछ देर बैठ कर यहीं जुगाली कर रहे हैं। और प्रारंभ मे 5 टिप्पणियों का एक गट्ठा डाल रहे हैं। बस ऐसे ही नेक काम करो लेकिन किसी को सींगों से मारने के लिए मत दौड़ाना।

    ReplyDelete
  9. ये लो सांड महाराज आपकी रचना भी हमने चर ली है और अब टिपिया भी रहे है हमारी तरफ़ से आपको टिप्पणी की कोई कमी नही रहेगी। हम टिप्पणी दे्ने मे कोई कमी नही करते है, अब कुछ देर बैठ कर यहीं जुगाली कर रहे हैं। और प्रारंभ मे 5 टिप्पणियों का एक गट्ठा डाल रहे हैं। बस ऐसे ही नेक काम करो लेकिन किसी को सींगों से मारने के लिए मत दौड़ाना।

    ReplyDelete
  10. ये लो सांड महाराज आपकी रचना भी हमने चर ली है और अब टिपिया भी रहे है हमारी तरफ़ से आपको टिप्पणी की कोई कमी नही रहेगी। हम टिप्पणी दे्ने मे कोई कमी नही करते है, अब कुछ देर बैठ कर यहीं जुगाली कर रहे हैं। और प्रारंभ मे 5 टिप्पणियों का एक गट्ठा डाल रहे हैं। बस ऐसे ही नेक काम करो लेकिन किसी को सींगों से मारने के लिए मत दौड़ाना।

    ReplyDelete
  11. दम तोड़ देती हैं कलियाँ लापरवाही के रखरखाव में!
    दया प्रेम ममता करुणा शामिल करलो स्वभाव में !!
    यहाँ हर एक तुर्रम खान है यहाँ अपनी बिसात क्या!!
    दम तोड़ देता है ब्लोगर धीरे धीरे "टिप्पणियों के अभाव में" !!

    वाह, क्या बात कह दी सांड जी आपने , अगर हर सांड ऐसे ही उच्च विचार रखे तो क्या कहने इस देश का ,
    बहुत सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  12. आप सभी का हार्दिक धन्यवाद!!!!घास डालने के लिए!!!

    ReplyDelete
  13. अजी वाह यह खुला सांड तो बाते बंधन की ओर अच्छी अच्छी करता है, सच्ची बहुत अच्छा सांड है, हम भी घास डाल देते है प्रेम की ताकि आंईदा भी खुब अच्छा अच्छा देता रहे
    बहुत अच्छी ओर सुंदर लगी आप की यह रचना

    ReplyDelete
  14. कहाँ किसी का भला हुआ आज तक टकराव में !
    मनके मणके पिरो माला बनो क्या रखा बिखराव में ...

    सच कहा है बाबा .......... हमारा देश जो जाती, धर्म और न जाने कितनी बातों में बँटा हुवा है ........ अगर एक माला में मिल जाए तो क्या बात है ..........

    ReplyDelete
  15. एक गट्ठा घास ये भी ले लो भई...कोई परेशान न हो!!!

    ReplyDelete
  16. लोहड़ी पर आपको भी शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  17. जय हो शिव वाहन नंदी जी महाराज के चिर सखा , सांड जी ब्लोग्गिंग में पधार कर इत्ती बढिया बात कर रहे हैं,अब मजाल है जो कोई इस बात को टाल सके। महाराज एक सांडनाथ बाबा पहले से हैं ई मैदान में । आप लोगन के आने से मेनका गांधी को कितना अपनापन टाईप का फ़ीलींग हुआ है , क्या बताएं । जय बाबा सांड की जय
    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  18. बहुत ख़ूब!
    अब तो सिद्ध हो गया कि ये हिन्दी ब्लॉगजगत नहीं बल्कि एक विशुद्ध चिड़िया-घर है जहाँ लोगों को अपनी बात समझाने के लिए साँड़ को खोल के उसके सींग से डराना पड़ता है।
    Alas !!

    ReplyDelete
  19. जय हो सांड महाराज की।

    ReplyDelete
  20. दिलचस्प अंदाज़ , आपकी बेहद कमी थी, उम्मीद है हर गली में निश्चिन्त हो घूमोगे ! कुछ लोग पालने की कोशिश करेंगे , सावधान रहना !

    ReplyDelete
  21. Humko maloom na thaa....

    "Saand bhi cute hote hain"

    ReplyDelete
  22. दम तोड़ देती हैं कलियाँ लापरवाही के रखरखाव में!..

    ReplyDelete

सांड को घास डालने के लिए धन्यवाद !!!! आपके द्वारे भी आ रहा हूँ! आपकी रचना को चरने!

Followers

चिट्ठाजगत http://www.chitthajagat.in/?ping=http://khula-saand.blogspot.com/


For more widgets please visit 
  www.yourminis.com

Lorem

Lorem

About This Blog