Saturday, January 16, 2010

क्या फ़ालतू की बात करते हो!!!

(बुरे खयालात और अच्छे ख्यालात में जंग होने लगी तो कुछ टूटता फूटा लिख डाला)

फुरसत नहीं मोहब्बत करने से |
आप नफरत करने की बात करते हो||
पाक ख़यालों की सोहबत से फुर्सत नहीं|
द्वेष को आप आत्मसात करते हो||

तोड़ने की कोशिश में हूँ मजहबी दायरे |
आप दरो दीवार की बात करते हो||
मशगुल हूँ मैं दिलों के जख्म सीने में|
आप चाके दिल करने बात करते हो ||

मैं चैनो अमन का पुजारी हूँ|
आप हुडदंग करने की बात करते हो||
मैं मेल मिलाप की बात करता हूँ|
आप हमेशां अलगाववाद करते हो||

आप हमेशां खुनी खंजर लिए फिरते हो|
इंसानियत पर आघात करते हो||
तुम किसी मजहब के नहीं फिर भी,
ना जाने कौन से मजहब की बात करते हो||

8 comments:

  1. इतना अच्छा लिखोगे ना खुला सांड भाई साहब, तो लोग फिर आपको प्रेमचंद का बैल कहने लगेंगे।
    हा हा लाजवाब लिखा है।

    ReplyDelete
  2. वाह-वाह , क्या कहा है आपने , लाजवाब ।

    ReplyDelete
  3. यह लो भाई आज तो हम भी हरी हरी घास ले कर आये है इनाम मै इस अति सुंदर रचना के बदले

    ReplyDelete
  4. आजकल आप कहाँ विचर रहे हैं ? मेरा दिया घांस भी नहीं चर रहे हैं.
    मैं आया तो मुझे भी वही पुराना वाला खिला दिया.

    ReplyDelete
  5. खुला सांड क्या गहरी बातें कहता हैं।

    ReplyDelete
  6. wah wah koi shabd nahi hai kahne ko suparbbbb....

    ReplyDelete

सांड को घास डालने के लिए धन्यवाद !!!! आपके द्वारे भी आ रहा हूँ! आपकी रचना को चरने!

Followers

चिट्ठाजगत http://www.chitthajagat.in/?ping=http://khula-saand.blogspot.com/


For more widgets please visit 
  www.yourminis.com

Lorem

Lorem

About This Blog